[1]
आभार., “दलित विमर्श : प्रासंगिकता कल आज और कल”, SOCRATES, vol. 1, no. 1, pp. 24-29, Dec. 2013.